नॉर्थ ईस्ट डायरी: ज्योति बसु के बाद सबसे अधिक समय तक मुख्यमंत्री रहने वाले नेता बने पवन चामलिंग

The Wire Hindi 6th May, 2018 05:27 PM

मिज़ोरम: एमएनएफ ने कहा, चकमा स्वायत्त जिला परिषद का भविष्य के सीएम के हाथों में. आइज़ोल: मिज़ो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) ने बीते एक मई को राजधानी आईजोल में कहा कि मिजोरम के मुख्यमंत्री ललथनहवला को इस बात पर फैसला करना है कि चकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) पर शासन कौन करेगा. सीएडीसी बांग्लादेश और म्यामां की सीमा से सटे दक्षिण-पश्चिमी मिज़ोरम में रहने वाले चकमा समुदाय के लोगों का स्वायत्त परिषद है. साल 1972 में भारतीय संविधान की छठी अनुसूची के तहत इसका गठन किया गया था. बीते 20 अप्रैल को 20 सदस्यीय सीएडीसी के लिए हुए चुनाव में खंडित जनादेश देखने को मिला था.and more »

Read on The Wire Hindi

Chakma News World is a community driven initiative to collect, collate and make available in one place all the Chakma & related news stories from all over the internet for easier and faster access. While efforts have been made to accurately link to the respective news sources, you are encouraged to report any errors and omissions.

स्थानीय चुनाव में एक साथ आए धुर विरोधी BJP और कांग्रेस

Times Now Hindi 30th Apr, 2018 05:53 PM

एजल : राजनीति में एक दूसरे का विरोध करने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस ने मिजोरम के चकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) की सत्ता पर काबिज होने के लिए हाथ मिला लिया है। प्रदेश भाजपा के एक शीर्ष नेता ने बताया कि चुनावों के बाद मिले खंडित जनादेश को देखते हुए कांग्रेस के छह सदस्य भाजपा का समर्थन करने के लिए तैयार हो गए हैं। सीएडीसी जातीय चकमा लोगों की एक स्वायत्त परिषद है। चकमा समुदाय के लोग म्यांमार और बांग्लादेश की सीमा से लगे मिजोरम के दक्षिण-पश्चिम भाग में रहते आ रहे हैं। सीएडीसी पर शासन करने के लिए दो पारंपरिक धुर विरोधी पार्टियों भाजपा और ...and more »

Read on Times Now Hindi

मिजोरम में भाजपा- कांग्रेस ने मिलाया हाथ, जानिए क्यों ?

अमर उजाला 29th Apr, 2018 04:24 PM

भाजपा राज्य में चकमा स्वायत्त जिला काउंसिल (सीएडीसी) में शासन करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। पार्टी ने इसके लिए कांग्रेस से हाथ मिलाया है। एक शीर्ष भाजपा नेता ने कहा कि खंडित जनादेश के बाद पार्टी कांग्रेस के छह सदस्यों के समर्थन से काउंसिल का संचालन करेगी। 20 सदस्यों वाली सीएडीसी में एमएनएफ ने आठ, कांग्रेस ने छह और भाजपा ने पांच सीटें जीती थी। सीएडीसी बांग्लादेश और म्यांमार सीमा पर दक्षिण-पश्चिम मिजोरम में रहने वाले चकमा लोगों का स्वायत्त संगठन है। पारंपरिक रूप से विरोधी दलों का हाथ मिलाना अपने आप में एक रोचक राजनीतिक घटना है। भाजपा नेता ने कहा कि सीएडीसी में पांच सदस्यों के साथ भाजपा काउंसिल का नेतृत्व करेगी। राज्य के खेल मंत्री और ...

Read on अमर उजाला

पाकिस्तान से आए रिफ्यूजियों को मिला प्रॉपर्टी का हक

Deutsche Welle 27th Apr, 2018 04:55 PM

साल 2016 के नागरिकता (संशोधन) विधेयक में अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश से हिंदू, सिक्ख, बौद्ध, ईसाई समुदाय के अवैध प्रवासियों को नागरिकता देने की बात कही गई है. पिछले साल भारत के गृह मंत्रालय ने कहा था कि वह 2015 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए फैसले को लागू करने जा रहा है. इस फैसले के तहत 54,000 चकमा और हजोंग शरणार्थियों को नागरिकता दी जानी थी. ये सभी शरणार्थी बौद्ध और हिंदू धर्म से ताल्लुक रखते हैं. अधिकारियों के मुताबिक इन्हें जमीन या आदिवासियों के अधिकार नहीं दिए जा सकते हैं क्योंकि इससे टकराव की स्थिति बन सकती है. महाराष्ट्र सरकार के इस निर्णय पर मुंबई ...

Read on Deutsche Welle

மிசோராமில் நடந்த கவுன்சில் தேர்தல்.. கூட்டணி அமைத்து அதிகாரத்தை கைப்பற்றும் பாஜக- காங்கிரஸ்!

OneIndia Tamil 26th Apr, 2018 04:13 PM

மிசோரம்: மிசோராமில் உள்ள தன்னாட்சி பொருந்திய சக்மா மாவட்ட கவுன்சிலை பாஜக கட்சியும், காங்கிரஸும் கூட்டணி அமைத்து நிர்வாகம் செய்ய இருக்கிறது. அங்கு நடந்த கவுன்சில் தேர்தலில் பெரும்பான்மை கிடைக்காத காரணத்தினால் அந்த கட்சிகள் இந்த முடிவை எடுத்து இருக்கிறது.

Read on OneIndia Tamil

मिजोरम में चुनाव में जीत के बाद सत्ता के लिए साथ आई बीजेपी और कांग्रेस

NDTV India 26th Apr, 2018 01:49 PM

गोवाहाटी: उत्तर-पूर्व राज्य मिजोरम में स्थानीय निकाय में सत्ता के लिए BJP और कांग्रेस ने गठबंधन किया है. इसके बावजूद दोनों ही दल सत्ता के करीब पहुंच कर भी चुनाव हार गए. विपक्षी गठबंधन ने सत्ता हथिया ली. बता दें कि भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने मिजोरम के चकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) के लिए हुए चुनाव में सत्ता के लिए एक दूसरे का हाथ थाम लिया है. दरअसल 20 सदस्यीय सीएडीसी के चुनाव में कांग्रेस ने छह और बीजेपी ने पांच सीटों पर जीत हासिल की थी. वहीं मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) ने सबसे अधिक आठ सीटों पर कब्जा जमाया था.

Read on NDTV India

मिजोरम में चुनाव में जीत के बाद सत्ता के लिए साथ आई बीजेपी और कांग्रेस

NDTV Khabar 26th Apr, 2018 12:49 PM

बीजेपी और कांग्रेस ने अलग अलग चुनाव लड़ा; चुनाव के बाद दोनों दलों के नेता साथ आए; कांग्रेस ने कम सीटों वाली बीजेपी को दिया अध्यक्ष पद. गोवाहाटी: उत्तर-पूर्व राज्य मिजोरम में स्थानीय निकाय में सत्ता के लिए BJP और कांग्रेस ने गठबंधन किया है. इसके बावजूद दोनों ही दल सत्ता के करीब पहुंच कर भी चुनाव हार गए. विपक्षी गठबंधन ने सत्ता हथिया ली. बता दें कि भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने मिजोरम के चकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) के लिए हुए चुनाव में सत्ता के लिए एक दूसरे का हाथ थाम लिया है. दरअसल 20 सदस्यीय सीएडीसी के चुनाव में कांग्रेस ने छह और बीजेपी ने पांच सीटों पर जीत हासिल की थी. वहीं मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) ने सबसे अधिक आठ सीटों पर कब्जा ...

Read on NDTV Khabar

मिजोरम: एमएनएफ को सत्‍ता से दूर रखने के लिए बीजेपी और कांग्रेस नेताओं ने किया गठबंधन

Jansatta 26th Apr, 2018 12:07 PM

कहते हैं राजनीति में कुछ भी असंभव नहीं होता। कुछ ऐसा ही हुआ है देश के पूर्वोत्तर राज्य मिजोरम में। वहां आदिवासी बहुल चकमा स्वायत जिला परिषद (सीएडीसी) के लिए हुए स्थानीय चुनावों में बीजेपी और कांग्रेस को बहुमत नहीं मिल सका तो दोनों धुर-विरोधी दलों के स्थानीय नेताओं ने जिला परिषद में अपनी सरकार बनाने के लिए गठबंधन कर लिया। 20 अप्रैल को 20 सीटों के लिए हुए मतदान में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिल सका। कांग्रेस को 6 सीटें मिलीं जबकि बीजेपी को पांच। मुख्य विपक्षी दल मिजो नेशनल फ्रंट को आठ सीटें मिली। एक सीट के चुनाव पर हाईकोर्ट ने रोक लगा रखी है।

Read on Jansatta

मिजोरम में बीजेपी-कांग्रेस का भाईचारा, CADC में मिलकर बनाई 'सरकार'

ABP News 26th Apr, 2018 09:27 AM

मिजोरम के चकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) के चुनाव में कांग्रेस ने छह और बीजेपी ने पांच सीट पर जीत तर्ज की है. ऐसे में सत्ता के लिए जरूरी 11 सीट हासिल करने में सभी पार्टी दूर रही. अब बीजेपी और कांग्रेस ने हाथ मिलाकर बहुमत हासिल कर लिया है. आइजोल: राजनीति में कुछ भी संभव है. दरअसल, एक अप्रत्याशित कदम के तहत भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस ने सत्ता में रहने के लिए एक दूसरे का हाथ थाम लिया है. मिजोरम के चकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) के लिए हुए चुनाव में न तो कांग्रेस और न ही बीजेपी को बहुमत मिला. ऐसे में दोनों ही पार्टियों के स्थानीय नेताओं ने गठबंधन कर परिषद पर कब्जा जमा लिया है.

Read on ABP News

मिझोरममध्ये सत्तेसाठी भाजपा-काँग्रेस आले एकत्र

Loksatta 26th Apr, 2018 06:33 AM

मिझोरममधील चकमा स्वायत्त जिल्हा परिषदेत सत्तेसाठी भाजपा व काँग्रेस यांनी हातमिळवणी केली आहे. स्वायत्त परिषदेच्या २० जागांपैकी काँग्रेसला सहा तर भाजपला पाच जागा मिळाल्या आहेत. तर मिझो नॅशनल फ्रंटने आठ जागा मिळवल्या. त्यामुळे निकालानंतर काँग्रेस व भाजपाने एकत्र ...

Read on Loksatta

ಮಿಜೋರಾಂ: ಚಕ್ಮ ಸ್ವಾಯತ್ತ ಜಿಲ್ಲಾ ಮಂಡಳಿಯಲ್ಲಿ ಕಾಂಗ್ರೆಸ್-ಬಿಜೆಪಿ ಮೈತ್ರಿ!

ಕನ್ನಡ ಪ್ರಭ 25th Apr, 2018 10:37 PM

... ಪಕ್ಷಕ್ಕೂ ಸ್ಪಷ್ಟ ಬಹುಮತ ಬರದ ಹಿನ್ನೆಲೆಯಲ್ಲಿ ಬಿಜೆಪಿ ಜೊತೆ ಮೈತ್ರಿ ಮಾಡಿಕೊಳ್ಳಲಾಗಿದೆ ಎಂದು ಕಾಂಗ್ರೆಸ್ ನಾಯಕರೊಬ್ಬರು ತಿಳಿಸಿದ್ದಾರೆ. 20 ಸದಸ್ಯರ ಚಕ್ಮಾ ಮಂಡಳಿಗೆ ಕಳೆದ ಶುಕ್ರವಾರ ಚುನಾವಣೆ ನಡೆದಿತ್ತು. ಅದರ ಫಲಿತಾಂಶ ನಿನ್ನೆ ಪ್ರಕಟಗೊಂಡಿದ್ದು, ಕಾಂಗ್ರೆಸ್ ಆರು ಸ್ಥಾನಗಳಲ್ಲಿ ಹಾಗೂ ಬಿಜೆಪಿ ...

Read on ಕನ್ನಡ ಪ್ರಭ

यहां भी नहीं बनी कांग्रेस की सरकार, एमएनएफ और भाजपा ने मिलाया हाथ

Daily News 360 25th Apr, 2018 12:35 PM

मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) ने मंगलवार को 20 सदस्यीय चकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) की आठ सीटों पर जीत हासिल कर राज्य की सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है, इसके साथ ही पहली बार पांच सीटों पर जीत पाकर बीजेपी सत्तारूढ़ कांग्रेस के करीब पहुंच गई है। वोटों की गिनती चावन्ते में की गई जिसके बाद इसके आधिकारिक परिणाम लॉन्गलाई जिले के डिप्टी कमिश्नर एन चखाई ने घोषित किए थे। 19 सीटों पर शुक्रवार को आयोजित सीएडीसी के चुनाव में सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी इस बार केवल छह सीटों पर ही जीत हासिल कर सकी,जबकि अंतिम परिषद अवधि में इसे पूर्ण बहुमत प्राप्त था। इसके साथ ही गुवाहाटी उच्च न्यायालय द्वारा परिणाम की घोषणा स्थगित करने के बाद फूटुली सीट पर चुनाव नहीं ...

Read on Daily News 360

डांस के बाद त्रिपुरा के मुख्यमंत्री ने गाया गाना

Daily News 360 17th Apr, 2018 06:57 PM

बीजू फेस्टिवल का चकमा समुदाय में है अनोखा क्रेज, ये है खास बातें. अगरतला। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब भाजपा के सबसे हैंडसम नेताआें में से एक होने के साथ ही कर्इ प्रतिभाओं के धनी हैं। उनके डांस का हुनर हम सब देख ही चुके हैं अब उन्होंने अपनी गायकी का हुनर भी दिखाया। अभी थोड़े दिनों पहले मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने अगरतला में भक्ती पुरुषोत्तम स्वामी व भक्तों के साथ हरे रामा हरे कृष्णा की धुन पर जमकर थिरकते नजर आए थे तो वहीं अब उन्होंने गाना गाकर सबको हैरान कर दिया है। बता दें कि त्रिपुरा में त्यौहारों का मौसम चल रहा हैं। त्रिपुरा में इस समय नए साल को जश्न मनाया जा रहा है। त्रिपुरा में नए साल का स्वागत आैर पुराने साल को अलविदा कहने के लिए चकमा ...and more »

Read on Daily News 360

बीजू फेस्टिवल का चकमा समुदाय में है अनोखा क्रेज, ये है खास बातें

Daily News 360 16th Apr, 2018 06:16 PM

त्रिपुरा में नए साल का स्वागत आैर पुराने साल को अलविदा कहने के लिए चकमा समुदाय बिजू फेस्टिवल मनाता हैं। बिजू फेस्टिवल प्रदेश में मुख्यतः तीन दिनाें तक मनाया जाता है, जिसके दो दिन चैत्र आैर एक दिन वैशाख का होता है। बता दें कि इस बार प्रदेश में बीजू का त्यौहार शुक्रवार को मनाया गया। केंद्रीय जनजातिय कल्याण मंत्री जुआल आेराम ने पैचारथल में आयोजित राज्य स्तरीय त्यौहार का उद्घाटन किया। इस मौके पर प्रदेश के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव आैर सामाजिक कल्याण मंत्री संताना चकमा भी मौजूद थे। आइए जानते हैं इस त्यौहार के बारे में कुछ खास बातें... बीजू पूरे देश में नहीं मनाया जाता है। इसे त्रिपुरा में रह रहे चकमा समुदाय के लोग ही मनाते हैं। ये त्यौहार तीन दिवसीय ...

Read on Daily News 360

'शुभो नोबो बोरसो' बंगाली नव वर्ष की त्रिपुरा से पारंपरिक तस्वीर

अमर उजाला 13th Apr, 2018 03:51 PM

ये तस्वीर त्रिपुरा के पेंचार्थल की हैं। चकमा समुदाय की लड़कियां बीजू त्योहार का उत्सव मना रही हैं। यह त्योहार बंगाली परंपरा के मुताबिक नव वर्ष के रूप में मनाया जाता है। हर साल बंगाली नववर्ष अप्रैल महीने के मध्य में मनाया जाता है। इस दौरान बंगाली लोग एक-दूसरे को 'शुभो नोबो बोरसो' कह कर नए साल की बधाई देते हैं। 'शुभो नोबो बोरसो' का मतलब होता है नव वर्ष मुबारक हो। आमतौर पर यह अप्रैल महीने की 14 तारीख को मनाया जाता है। बंगाल में इसे पोहला बोईशाख कहा जाता है। यह बैशाख महीने का पहला दिन होता है। पोएला का अर्थ है पहला और बोइशाख बंगाली कैलेंडर का पहला महीना है। बंगाली कैलेंडर हिन्दू वैदिक सौर मास पर आधारित है। पोइला बैसाख को पूरे बंगाल के अलावा आस ...and more »

Read on अमर उजाला

Poll panel recognition for party in Mizoram

The Telegraph India 6th Apr, 2018 12:17 AM

Jaitley fingers at his own tri… "We hope we can work better as a political party than being an NGO to achieve our goal of eradicating corruption and other malpractices in Mizoram," he said. Hitting out at the ruling Congress, he said it has completely ...and more »

Read on The Telegraph India

शपथ ग्रहण समारोह देखने के लिए ट्रेन से आ रही थी संताना चकमा और बन गई मंत्री

Daily News 360 13th Mar, 2018 04:35 PM

संताना चकमा सपने के सच होने संबंधी मुहावरे का सटीक उदाहरण है। संताना चकमा ने सोशल साइंस में मास्टर डिग्री ले रखी है। उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी गरीबी के साथ लड़ाई में बिताई है। संताना के पिता चंद्रधान चकमा अपने गांव में प्राइवेट ट्यूशन पढ़ाते थे। सेलेब्रल अटैक के बाद वे लकवे से पीडि़त हो गए। संताना के दो बड़े भाई हैं जो उनके साथ पेचारथाल में रहते हैं। मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद संताना चाहती थी कि वह अपने परिवार की मदद करे। उन्होंने नौकरी के लिए प्रयास किया लेकिन रिजेक्ट हो गई। बकौल संताना, मैं भाजपा के चोलो पलटई(बदलाव करें) के नारे से बहुत प्रभावी थी, इसलिए पार्टी में शामिल हो गई और दिन रात पार्टी के लिए काम करने लगी। जब संताना को पेचारथल ...

Read on Daily News 360

1500 Year Old Heritage Of Saving Water Found In Mizoram

Daily News 360 12th Mar, 2018 02:29 PM

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने मिजोरम की राजधानी आईजोल के पहाड़ों पर जल संचयन की नायाब तकनीक खोजी है। दरअसल ये तकनीक करीब 1500 साल पुरानी है। आईजोल से 260 किलोमीटर दूर वांछिया में तीन से पांच किलोमीटर लंबे जल संचयन केंद्र मिले ...and more »

Read on Daily News 360

त्रिपुराः BJP सरकार में चकमा सबसे युवा मंत्री, उम्र महज 32 साल

Daily News 360 9th Mar, 2018 06:53 PM

एकमात्र महिला एवं सबसे युवा चेहरे के रूप में संतना चकमा ने आज इतिहास रचा, जब उन्होंने भाजपा की अगुवार्इ वाली सरकार में मंत्री पद की शपथ ली। संतना आदिवासी चकमा समुदाय है आैर पहली आदिवासी महिला है जिन्होंने मंत्री पद की शपथ ली है। संतना पेशे से क समाज सेविका है। 2015 में मास्टर्स करने के बाद 32 साल की संतना ने भाजपा ज्वाइन किया था। संतना चकमा के अलावा शंभू लाल चकमा भी आदिवासी समुदाय है आैर शंभू लाल ने भी इस विधानसभा चुनाव में भाजपा की टिकट से चुनाव जीता है। संतना ने भाजपा की टिकट से चुनाव लड़ा। उन्होंने पेंचारथल से दो बार माकपा के विधायक रह चुके अनिल चकमा को 1373 मतों से हरा कर इतिहास रचा। इस बार के चुनाव में संतना को कुल 17743 वोट मिले तो वहीं ...

Read on Daily News 360

मिजोरम में भाजपा को झटका, एक नेता कांग्रेस में शामिल - (प्रेस विज्ञप्त

Daily News 360 7th Mar, 2018 05:18 PM

मिजोरम प्रदेश कांग्रेस कमेटी (एमपीसीसी) के एक बयान में कहा गया है कि चाकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) में एकमात्र भाजपा के सदस्य लक्ष्मी विक्रस चकमा ने बुधवार को भाजपा छोड़ दी और कांग्रेस में शामिल हो गए। Related News. आरएसएस की शिक्षा-दीक्षा से तपे हैं त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री · क्या कभी नगालैंड विधानसभा की दहलीज लांघेंगी महिलाएं? त्रिपुरा में शुरू हुई बदले की राजनीति, क्या यही है भारी बहुमत का परिणाम. मिजोरम. मिजोरम प्रदेश कांग्रेस कमेटी (एमपीसीसी) के एक बयान में कहा गया है कि चाकमा स्वायत्त जिला परिषद (सीएडीसी) में एकमात्र भाजपा के सदस्य लक्ष्मी विक्रस चकमा ने बुधवार को भाजपा छोड़ दी और कांग्रेस में शामिल हो गए। भाजपा पूर्वोत्तर में ...and more »

Read on Daily News 360

त्रिपुरा : जनजातीय या पूर्व कांग्रेसी, किसके सिर सजेगा ताज?

खास खबर 4th Mar, 2018 08:19 PM

नई दिल्ली। त्रिपुरा में शून्य से सत्ता के शिखर पर पहुंचने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) यहां मुख्यमंत्री का ताज किसे सौंपेगी यह अभी तय नहीं है। हालांकि, मुख्यमंत्री बनने की दौड़ में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बिप्लव देव का नाम सबसे आगे चल रहा है, लेकिन त्रिपुरा की राजनीति को समझने वालों का मानना है कि भाजपा यहां भी कोई चौंकाने वाला फैसला ले सकती है। त्रिपुरा केंद्रीय विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर गौतम चकमा का कहना है कि मुख्यमंत्री पद की लालसा कई लोग अपने मन में दबाए हुए हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले यह भी चर्चा थी कि भाजपा यहां किसी आदिवासी (जनजाति) नेता को मुख्यमंत्री की कमान सौंप सकती है ...and more »

Read on खास खबर

आज भी अनपढ़ हैं भारत के करोड़ों लोग

Deutsche Welle 1st Mar, 2018 12:40 PM

साक्षरता के मामले में भारत एशिया के टॉप 20 देशों में नहीं आता. देश की करीब 30 फीसदी जनता अब भी अनपढ़ है. देखिये साक्षरता के मामले में भारत का कौन सा राज्य कहां खड़ा है. Indien | Clean India Mission in Schulen (P. Samanta). 30. बिहार: 63.82 फीसदी. Indien Kollam Tempel Feuer Ruine (Reuters/J. Dey). 29. तेलंगाना: 66.5 फीसदी. Indien - Der Dalai Lama besucht Arunachal Pradesh (Prabhakar Mani). 28. अरुणाचल प्रदेश: 66.95 फीसदी. Kinder in Rajasthan Prostitution Nirvanavan Foundation (Lauren Farrow). 27. राजस्थान: 67.06 फीसदी. UNESCO Weltbildungsbericht 2013/4 EINSCHRÄNKUNG (Poulomi Basu/UNESCO). 26. आंध्र प्रदेश: 67.4 फीसदी. Indien Medienservice Mobile Vaani (Mobile Vaani). 25. झारखंड: 67.63 फीसदी. Indien ...

Read on Deutsche Welle

लोकतंत्र के सबक सिखाता पूर्वोत्तर

Deutsche Welle 28th Feb, 2018 03:23 PM

मिजोरम में राजनीतिक शास्त्र के एक प्रोफेसर डी.जी. ललथनहौला कहते हैं, "इलाके के तमाम राज्य देश के दूसरे राज्यों के मुकाबले युवा हैं. ऐसे में अलग राज्य का दर्जा मिलने के बाद पैदा होने वाली पीढ़ी अभी जवान है." वह बताते हैं कि ऐसे लोगों में साक्षरता दर बेहतर है और वह अपने अधिकारों के प्रति सचेत हैं. यही वजह है कि वह अपने मताधिकार के इस्तेमाल के प्रति काफी सचेत हैं. मेघालय की नार्थ ईस्ट हिल यूनिवर्सिटी (नेहू) में राजनीति विज्ञान की छात्रा एम.सी. संगमा कहती हैं, "हम अपने अधिकारों के प्रति सचेत हैं. देश के संविधान और लोकतंत्र के प्रति इलाके के लोगों की आस्था बनी हुई है." त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार कहते हैं, "राज्य के लोगों में साक्षरता बढ़ने के साथ अपने ...

Read on Deutsche Welle

त्रिपुरा: बीजेपी भेद पाएगी सीपीएम का किला?

Deutsche Welle 15th Feb, 2018 09:13 PM

उन्होंने कहा, "प्रदेश में उद्योग का अभाव है. यहां की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है. ग्रामीण क्षेत्र में बेरोजगार युवाओं की एक बड़ी फौज है. बीजेपी ने लोगों को नौकरियां देने का वादा किया है." चकमा ने कहा कि त्रिपुरा में आदिवासियों की एक बड़ी आबादी है और आदिवासी संगठन आईपीएफटी बीजेपी के साथ है, जिसका उसे फायदा मिल सकता है. वह यह भी मानते हैं कि वाम दल के गढ़ में सेंध लगाना आसान नहीं है, लेकिन इस बार राजनीतिक फिजा कुछ बदली हुई है, इसलिए अप्रत्याशित नतीजे आ सकते हैं. पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में सरकार बनाने के बाद बीजेपी की नजर फिलहाल त्रिपुरा है और संघ कार्यकताओं के साथ बीजेपी के सभी बड़े नेता और मंत्री इस समय वहां डेरा डाले हुए ...and more »

Read on Deutsche Welle

गणतंत्र दिवस: ऐसा पहली बार हुआ 69 सालों में, तस्वीरें देख अपने जज्बे को रोक नहीं पाएंगे

अमर उजाला 26th Jan, 2018 03:58 PM

आज देशभर में 69वां गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 आसियान देशों के प्रधानमंत्रियों को एक साथ लाने में कामयाब हुए हैं। रिपब्लिक डे परेड की शुरुआत इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति से हुई है। परेड में कई राज्यों की झांकी निकली तो पहली बार आल इंडिया रेडिया यानि आकाशवाणी की भी झांकी निकली। परेड में कई रोचक तस्वीरें भी सामने आई। हम आपको उन चुनिंदा तस्वीरें दिखा रहे हैं जिन्होंने सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया। भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) द्वारा प्रस्तुत झांकी इस बार गणतंत्र दिवस परेड का एक विशेष आकर्षण रही। इस झांकी में हिमालयी क्षेत्रों में बल द्वारा पेट्रोलिंग, बर्फ वाले क्षेत्र, पर्वतारोहण में बल की उपलब्धियां ...and more »

Read on अमर उजाला

मिजोरम के छात्रों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने रखी ऐसी मांग, जानिए क्या

Daily News 360 18th Dec, 2017 12:01 PM

मिजोरम में मोदी ने कहाः दिल्ली जाने की जरूरत नहीं, दिल्ली आपके पास आएगी. आइजोल. मिजोरम की सिविल सोसाइटी और छात्र संगठनों के एक समूह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह सुनिश्चित करने का अनुरोध किया कि खास तौर पर बांग्लादेशी चकमा शरणार्थियों सहित सभी अवैध प्रवासियों को वापस भेजा जाए। मोदी की यहां की यात्रा के दौरान एनजीओ समन्वय समिति ने उन्हें सौंपे एक ज्ञापन में दावा किया कि राज्य में चकमा आबादी की दशकीय वृद्धि 1981 से 1991 के बीच 200.47 प्रतिशत थी। ज्ञापन में कहा गया है कि जब आपने 2014 में आम चुनाव से पहले असम का दौरा किया था, तब आपका जोर अवैध प्रवासियों के विषय पर था और आपने हमें आश्वस्त किया था कि आपकी सरकार देश से विदेशियों को ...

Read on Daily News 360

दिल्ली के मुख्य सचिव नियुक्त हुए अंशु प्रकाश, जानिए नॉर्थईस्ट कनेक्शन

Daily News 360 3rd Dec, 2017 10:46 AM

वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अंशु प्रकाश को आज दिल्ली सरकार का मुख्य सचिव नियुक्त किया गया. Related News. मिजोरम में चकमा हाउस में तोडफ़ोड़,चकमाओं को बुरी तरह पीटा गया · मिजोरम के मुख्यमंत्री ललथनहवला ने बदले मंत्रियों के विभाग · मिजोरम में छात्रों ने फूंका मोदी के मंत्री का पुतला,जानिए क्यों. नयी दिल्ली. वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अंशु प्रकाश को आज दिल्ली सरकार का मुख्य सचिव नियुक्त किया गया। वर्ष 1986 बैच और अरुणाचल-गोवा-मिजोरम एवं केंद्र शासित एजीएमयूटी कैडर के आईएएस अधिकारी प्रकाश को केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय से उनके मूल कैडर में समय से पूर्व वापस भेज दिया गया है। उन्होंने मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव और विाीय सलाहकार के रूप में अपनी सेवाएं दीं ...

Read on Daily News 360

नॉर्थ ईस्ट डायरी: अरुणाचल के कस्बे में एक बोरी सीमेंट की कीमत 8000 रुपये

The Wire Hindi 19th Nov, 2017 05:55 PM

ईटानगर: इस पर विश्वास करें या नहीं करें, लेकिन अरुणाचल प्रदेश के विजॉयनगर कस्बे में रह रहे लोग एक बोरी सीमेंट के लिए 8000 रुपये चुका रहे हैं और वह भी उपलब्ध होने पर ही किसी को मिलता है. चांगलांग ज़िले में 1500 की आबादी वाले सब डिविजन विजॉयनगर में पर्याप्त सड़क संपर्क नहीं है. मिआओ में निकटवर्ती मार्ग से कस्बे में पहुंचने के लिए लोगों को पांच दिन लगते हैं. सामानों की आपूर्ति के लिए एक साप्ताहिक हेलिकॉप्टर सेवा भी है लेकिन यह पूरी तरह से मौसमी स्थिति पर निर्भर करता है. लोक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग (पीएचई) विभाग के कनिष्ठ अभियंता जुमली अदो ने बताया, 'इस कस्बे मुख्य रूप से चकमा और हाजोंग समुदाय के लोग रहते हैं. यहां एक बोरी सीमेंट की कीमत 8,000 रुपये और एक ...

Read on The Wire Hindi

नॉर्थ ईस्ट डायरी: 'त्रिपुरा: चकमा जनजातीय समुदाय ने सुप्रीम कोर्ट का आदेश लागू करने की मांग की '

The Wire Hindi 8th Oct, 2017 07:19 PM

त्रिपुरा: चकमा जनजातीय समुदाय ने सुप्रीम कोर्ट का आदेश लागू करने की मांग की. कंचनपुर: बीते तीन अक्टूबर को चकमा नेशनल काउंसिल ऑफ इंडिया (सीएनसीआई) ने अरुणाचल प्रदेश में बसे चकमा और हाजोंग समुदाय के लोगों को स्थायी नागरिकता देने के लिए उच्चतम न्यायालय के आदेश को तुरंत लागू करने का आह्वान किया है . तीन अक्टूबर को संपन्न हुए दो दिवसीय सीएनसीआई सम्मेलन में स्वीकार किए गए एक प्रस्ताव में कहा गया, हमेशा नागरिकताविहीन स्थिति में रहकर चकमा समुदाय के लोग अरुणाचल प्रदेश में कैसे रह सकते हैं. सीएनसीआई ने सरकार से ऐसे स्वार्थी तत्वों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की मांग की जो शीर्ष न्यायालय के फैसले पर अमल की राह में रोड़े अटका रहे हैं. चकमा जनजातीय समुदाय के ...

Read on The Wire Hindi

मिजोरम में चकमा हाउस में तोडफ़ोड़,चकमाओं को बुरी तरह पीटा गया

Daily News 29th Sep, 2017 09:46 PM

आईजोल/नई दिल्ली। ऑल इंडिया चकमा सोशल फोरम(एआईसीएसएफ) ने आईजोल में चकमा हाउस पर हमले की कड़ी निंदा की है। एआईसीएसएफ ने गृह मंत्रालय से तुरंत हस्तक्षेप की मांग की है। मिजो स्टूडेंट्स यूनियन के नेताओं ने आईजोल में चकमा स्वायत्त जिला परिषद(सीएडीसी) के चकमा हाउस पर हमला किया था। चकमा हाउस आईजोल के हंथार वेंग लोकेलिटी में स्थित है। मिजो स्टूडेंट्स यूनियन के दर्जन भर नेता चकमा हाउस में घुसे और अल्पसंख्यक चकमाओं को धमकाना शुरू किया। उन्होंने चकमा हाउस में जमकर तोडफ़ोड़ भी की। हमलावरों ने चकमा हाउस के संपर्क अधिकारी(सीओ)पुर्णो कुमार तो गचांग्या को बंद कर दिया। उन्हें करीब 15 मिनट तक एक कमरे में बंद रखा गया। हमलावरों ने उन्हें धमकाया। इसके बाद हमलावरों ने चकमा हाउस के ऑफिस रूम में रखे कम्प्यूटर, प्रिंटर्स, अलामारियों, टैबलों और कुर्सियों को तोड़ दिया।

Read on Daily News

रोहिंग्या के साथ क्या सलूक किया जाए ?

Patrika 20th Sep, 2017 05:53 PM

जिनमें अरुणाचल प्रदेश में 520 किलोमीटर की सीमा म्यांमार से लगी हुई है। मणिपुर में 398 किलोमीटर सीमा, मिजोरम में 510किलोमीटर सीमा लग रही है। नगालैंड में 215किलोमीटर की खुली सीमा म्यांमार के साथ लगती है। कुल 1643 किलोमीटर की सीमा में बिना घेराबंदी की सीमा पर 16 किलोमीटर भूभाग फ्री जोन है। जिसमें दोनों तरफ आठ-आठ किलोमीटर की सीमाएं शामिल हैं। पश्चिम बंगाल के बेनापोल-हरिदासपुर,हिल्ली,त्रिपुरा के सोनामोरा,कोलकाता और गुवाहाटी से घुसपैठ होती है और रोहिंग्या मुसलमान देश में जम्मू, दिल्ली, हैदराबाद और राजस्थान के मेवात में हैं। जहां कुछ रोहिंग्या ...and more »

Read on Patrika

चकमा शरणार्थियों को 50 साल बाद मिलेगी नागरिकता ...

Deutsche Welle 19th Sep, 2017 08:08 PM

भारत में 40000 रोहिंग्या शरणार्थियों को लेकर तेज बहस हो रही है. इस बहस के बीच देश में दशकों से रह रहे चकमा और हजोंग शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दी जा रही है.and more »

Read on Deutsche Welle

अरुणाचल प्रदेश: चकमा-हाजोंग को नागरिकता देने पर छात्र संघ का प्रदर्शन

News State 19th Sep, 2017 04:21 PM

नई दिल्ली: अरुणाचल प्रदेश का छात्र संघ चकमा और हाजोंग समुदाय को नागरिकता देने के केंद्र के फैसले पर विरोध प्रदर्शन कर रहा है। अरुणाचल प्रदेश के छात्र संघ ने केंद्र के इस फैसले के खिलाफ 12 घंटे की हड़ताल भी बुलाई है। हाल ही में केंद्र ने चकमा और हाजोंक समुदाय को नागरिकता देने का ऐलान किया था। जिसके बाद से विरोध प्रदर्शन का दौर जारी है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने भी इस मुद्दे पर केंद्र के फैसले का बचाव भी किया था। चकमा हाजोंग समुदाय को भारत की नागरिकता देने के मामले में किरण रिजीजू ने 13 सितंबर को अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री से भी बात की थी। Arunachal Pradesh: All Arunachal Pradesh Students' Union protests in Itanagar against move to grant citizenship to ...and more »

Read on News State

रोहिंग्या मुसलमान : भारत-म्यांमार सीमा पर सुरक्षा बढ़ाई गई

NDTV Khabar 15th Sep, 2017 11:39 PM

पूर्वोत्तर में चार राज्य अरुणाचल प्रदेश (520 किलोमीटर), मणिपुर (398 किलोमीटर), मिजोरम (510किलोमीटर), नागालैंड (215किलोमीटर) की खुली सीमा म्यांमार के साथ लगती है. ख़बर न्यूज़ ... द्विवेदी ने कहा, 'मिजोरम और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों के साथ म्यांमार की सीमा खुली है, इसलिए सुरक्षा बलों को यहां हर वक्त तैनात रखा गया है और रोहिंग्या समुदाय को अवैध रूप से भारत में आने से रोकने के लिए हवा से भी निगरानी रखी जा रही है.' ... जमात उलेमा-ए-हिंद के त्रिपुरा राज्य इकाई के मुसलमानों ने गुरुवार को म्यांमार में राहिंग्या मुसलमानों पर हो रहे अत्याचार के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन किया.and more »

Read on NDTV Khabar

तस्लीमा आपकी बहन बन गई, तो रोहिंग्या आपका भाई नहीं बन सकता है क्या मिस्टर मोदी- ओवैसी

Jansatta 15th Sep, 2017 01:48 PM

ओवैसी ने कहा कि भारत में बांग्लादेश के चकमा, श्रींलका के तमिल रिफ्यूजी, और चीन के सताये कई बौद्ध रिफ्यूजी रह रहे हैं तो रोहिंग्या मुसलमानों को भारत शरण क्यों नहीं दे सकता है। Author जनसत्ता ऑनलाइन September 15, 2017 13:48 pm. 13.8K. Shares. Share · Next. लुधियाना में रोहिंग्या मुसलमानों के समर्थन में प्रदर्शन करते भारतीय मुसलमान (Express Photo by Gurmeet Singh 12-09-17). रोहिंग्या मुसलमानों के मुद्दे पर एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने नरेन्द्र मोदी सरकार पर करारा हमला बोला है। ओवैसी ने इस मुद्दे पर सीधे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को निशाने पर लिया और कहा कि प्रधानमंत्री जी जब बांग्लादेश की लेखिका तस्लीमा नसरीन आपकी बहन हो सकती है तो म्यांमार के रिफ्यूजी ...

Read on Jansatta

चकमा और हाजोंग शरणार्थियों को भारत क्यों दे रहा है नागरिकता ?

Azab Gazab 15th Sep, 2017 10:38 AM

चकमा और हाजोंग शरणार्थियों पर सरकार ने क्या फैसला किया है. अरुणाचल प्रदेश में कई अनुसूचित जनजातियां रहती हैं और बाहर से आए रिफ्यूजी लोगों को वहां बसाने के लिए जमीन और बाकी अधिकार भी देने का मसला खड़ा हो जाता है. स्थानीय लोग तो इस बात का विरोध कर रहे हैं. साल 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर एक समय-सीमा तय की थी और साथ ही सरकार से कहा कि तीन महीने के अंदर चकमा और हाजोंग रिफ्यूजियों को नागरिकता दो. सरकार ने कोर्ट के इस आदेश के खिलाफ अपील की. राज्य सरकार ने यह दलील दी कि इससे प्रदेश की जनसांख्यिकी बिगड़ जाएंगी. इससे उनके लिए मुश्किलें खड़ी हो जाएंगी. लेकिन दलीलों का कोई असर नहीं हुआ.

Read on Azab Gazab

रोहिंग्या मुस्लिमों को क्या इन कारणों से भारत में नहीं रखना चाहती सरकार

आज तक 15th Sep, 2017 07:32 AM

रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर दक्षिण एशिया के देशों में बवाल मचा हुआ है. भारत में भी इस समुदाय को लेकर सरकार की राय स्पष्ट नहीं है. हाल ही में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा था कि, "रोहिंग्या मुसलमान देश की सुरक्षा के लिए खतरा है और इस समुदाय के लोग आतंकी संगठनों से भी जुड़े हो सकते हैं". हालांकि, कोर्ट से सरकार ने इसे होल्ड करने की अपील की है. मोदी सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को भारत में जगह देने से पीछे यह कहकर हट रही है कि इससे भारत की आतंरिक सुरक्षा को खतरा होगा. लेकिन क्या 40 हजार रोहिंग्या भारत के लिए वाकई खतरा है या फिर इसके पीछे कोई राजनीतिक कारण है. यदि भारत के अतीत पर नजर दौड़ाई जाए तो शरणार्थियों के लिए भारत हमेशा ...

Read on आज तक

चकमा शरणार्थियों को मिलेगी भारत की नागरिकता, रिजीजू ने बताई 'कांग्रेस की गलती'

आज तक 13th Sep, 2017 08:29 PM

कोर्ट ने अपने फैसले में केंद्र सरकार को चकमा और हाजोंग शरणार्थियों को नागरिकता देने का आदेश दिया था. इनमें से बड़ी संख्या में लोग अरुणाचल प्रदेश में रहते हैं. गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि गृह मंत्री राजनाथ सिंह कल अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू से इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे. हालांकि, मुख्यमंत्री शरणार्थियों को नागरिकता दिए जाने का यह कहते हुए विरोध कर रहे हैं कि इससे राज्य की जनसांख्यिकी बदल जाएगी. रिजजू ने बताई कांग्रेस की गलती... चकमा और हाजोंग समुदाय के लोगों को भारतीय नागरिकता मिलने पर गृह राज्य मंत्री किरण रिजजू ने कहा कि, " कांग्रेस ...

Read on आज तक

नॉर्थ ईस्ट डायरी: असम सरकार ने समूचे राज्य को छह महीने के लिए अशांत क्षेत्र घोषित किया

The Wire Hindi 10th Sep, 2017 06:27 PM

मिजोरम: बलात्कार और हत्या के मामले में बीएसएफ के दो कर्मी गिरफ्तार. आइजोल: मिजोरम पुलिस ने ममित जिले में एक महिला से कथित तौर पर बलात्कार करने और उसके चेहरे पर तेजाब फेंकने तथा उसकी सेहली की हत्या के आरोप में बीएसएफ के दो कांस्टेबलों को गिरफ्तार किया है. ममित के पुलिस अधीक्षक नारायण थापा ने बताया कि बीएसएफ के दो कर्मियों को जिले के सिलसुरी गांव में उनकी तैनाती के स्थान से गिरफ्तार किया गया है. जिले की सरहद त्रिपुरा और बांग्लादेश से लगती है. थापा ने कहा कि बीएसएफ की 181वीं बटालियन के अधिकारियों ने पहले दो कांस्टेबलों की गिरफ्तारी की इजाजत नहीं दी. एसपी ने कहा कि जिला अदालत द्वारा उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने के बाद उन्हें पुलिस ...

Read on The Wire Hindi

महिला से रेप और उसकी सहेली की हत्या के मामले में BSF के दो कांस्टेबल गिरफ्तार

Zee News हिन्दी 6th Sep, 2017 06:54 PM

एजल: मिजोरम पुलिस ने ममित जिले में एक महिला से कथित तौर पर बलात्कार करने और उसके चेहरे पर तेजाब फेंकने तथा उसकी सेहली की हत्या के आरोप में बीएसएफ के दो कांस्टेबलों को गिरफ्तार किया है. ममित के पुलिस अधीक्षक नारायण थापा ने बुधवार को बताया कि बीएसएफ के दो कर्मियों को जिले के सिलसुरी गांव में उनकी तैनाती के स्थान से गिरफ्तार किया गया है. जिले की सरहद त्रिपुरा और बांग्लादेश से लगती है. कोर्ट द्वारा वारंट जारी होने पर हुई गिरफ्तारी थापा ने फोन पर कहा कि बीएसएफ की 181वीं बटालियन के अधिकारियों ने पहले दो कांस्टेबलों की गिरफ्तारी की इजाजत नहीं दी. एसपी ने कहा कि जिला अदालत द्वारा उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने के बाद उन्हें पुलिस के ...

Read on Zee News हिन्दी

रोहिंग्या मुद्दा: दशकों से शरणार्थियों को शरण देता आ रहा भारत

नवभारत टाइम्स 6th Sep, 2017 09:32 AM

अगर आप संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायोग (UNHCR इंडिया) की वेबसाइट पर जाएं तो शरणार्थियों पर देश के स्टैंड की झलक मिलेगी। इस पर लिखा है कि भारत में लोगों को शरण देने की परंपरा काफी पुरानी है और यह शताब्दियों से चल रही है। फिलहाल भारत के सामने रोहिंग्या शरणार्थियों का मुद्दा है। भारत ने इन्हें वापस म्यांमार भेजने का फैसला किया है। पीएम मोदी म्यांमार के दौरे पर हैं और उनसे इसके समाधान की अपील की जा रही है। सवाल यह है कि क्या भारत रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस भेज सकता है? ऐसे में जानिए रोहिंग्या शरणार्थियों का पूरा मामला और भारत क्यों चाहता है इन्हें ...and more »

Read on नवभारत टाइम्स

नॉर्थ ईस्ट डायरी: गोवध पर प्रतिबंध लगाने वाला पूर्वोत्तर का पहला राज्य बना सिक्किम

The Wire Hindi 3rd Sep, 2017 06:16 PM

मिज़ोरम: 'राज्य को जातीय आधार पर मिज़ोरम को बांटने के प्रयास का होगा विरोध'. आइजोल: मिज़ोरम के मुख्यमंत्री लाल थनहावला ने कहा कि इस राज्य के टुकड़े करने की किसी भी कोशिश का आख़िर तक पुरजोर विरोध किया जाएगा. एक सितंबर को उन्होंने कांग्रेस भवन में सत्तारूढ़ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को संबोाधित करते हुए कहा कि जातीय आधार पर राज्य को विभाजित करने के किसी भी कदम का विरोध किया जाएगा. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि मिज़ो लोगों को संवेदनशील राजनीतिक मुद्दों से बड़ी सावधानी से निपटना चाहिए. एनजीओ कोआॅडिनेशन कमेटी द्वारा सभी राजनीतिक दलों से चकमा समुदाय के उम्मीदवार खड़ा नहीं करने की अपील पर उन्होंने कहा कि ऐसे कदम मिज़ोरम के हित में ...

Read on The Wire Hindi

नॉर्थ ईस्ट डायरी: 'मिज़ोरम में डॉक्टरों की कमी, केंद्र द्वारा मेडिकल सीटों की कटौती अफसोसनाक'

The Wire Hindi 27th Aug, 2017 07:50 PM

मिज़ोरम: केंद्र सरकार ने राज्य को सालाना आवंटित होने वाली एमबीबीएस (मेडिकल) सीटों में कटौती कर दी है. राज्य की कांग्रेस सरकार द्वारा चकमा समुदाय के विद्यार्थियों को एमबीबीएस में दाख़िला देने से इंकार करने के कुछ समय बाद ही केंद्र का यह फैसला आया है. योग्यता पूरी करने के बावजूद कांग्रेस सरकार द्वारा मिज़ोरम के चकमा समुदाय के चार विद्यार्थियों को एमबीबीएस में दाख़िला देने से इनकार करने को लेकर जारी विवाद केंद्र सरकार के इस फैसले के बाद और जटिल हो गया है. केंद्र सरकार ने बिना कोई कारण बताए राज्य को सत्र 2017-18 के लिए आवंटित होने वाली सीटों में कटौती कर दी है.

Read on The Wire Hindi

विधानसभा चुनाव से पहले त्रिपुरा में आतंकी हिंसा की साजिश

Zee News हिन्दी 27th Aug, 2017 04:45 PM

एनएलएफटी नेताओं ने अगले विधानसभा चुनावों के दौरान व उससे पहले हिंसा शुरू करने के लिए हाल में नई भर्ती शुरू की है. आत्मसमर्पण करने वाले यह चारों सदस्य नए भर्ती किए गए आतंकवादियों में से हैं." गिरफ्तार एनएलएफटी आतंकवादी. आतंकवादियों ने पुलिस से कहा कि बांग्लादेश में एनएलएफटी नेता उन्हें हथियारों का प्रशिक्षण दे रहे हैं और उन्हें भरोसा दिया कि वे अगले विधानसभा चुनावों के बाद आत्मसमर्पण कर सकते हैं और उन्हें सरकारी नौकरियां मिलेंगी. इस बीच त्रिपुरा पुलिस एक अन्य गिरफ्तार एनएलएफटी आतंकवादी नरेश चकमा (34) को प्राप्त करने की कोशिश में जुटी है. चकमा अभी असम पुलिस ...

Read on Zee News हिन्दी

मिजोरम के मत्स्य पालन राज्य मंत्री चकमा का इस्तीफा मंजूर

Samachar Jagat 24th Aug, 2017 01:49 PM

एजल। मिजोरम के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) निर्भय शर्मा ने मत्स्य पालन राज्य मंत्री बुद्ध धन चकमा का इस्तीफा स्वीकार कर लिया। राजभवन के सूत्रों ने यह जानकारी दी। चकमा ने मुख्यमंत्री लल थनहवला को सोमवार को अपना इस्तीफा सौंपा था और मुख्यमंत्री कार्यालय ने उनका इस्तीफा मंगलवार को राज्यपाल के पास भेजा दिया था। सूत्रों ने बताया कि राज्यपाल ने चकमा का इस्तीफा मंजूर कर लिया। चकमा ने अपने इस्तीफे में कहा कि चार छात्रों जिन्होंने एमबीबीएस सीटें राज्य कोटा के तहत प्राप्त की थी उन्हें राज्य के उच्चतर एवं तकनीकी शिक्षा विभाग ने देश भर के किसी भी ...and more »

Read on Samachar Jagat

मिजोरम के राज्यपाल ने स्वीकार किया मंत्री का इस्तीफा

नवभारत टाइम्स 24th Aug, 2017 01:30 PM

लॉगिन करें. एजल, 24 अगस्त भाषा मिजोरम के राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल सेवानिवृा निर्भय शर्मा ने मत्स्य पालन राज्य मंत्री बुद्ध धन चकमा का इस्तीफा आज स्वीकार कर लिया। राजभवन के सूत्रों ने यह जानकारी दी। चकमा ने मुख्यमंत्री लल थनहवला को सोमवार को अपना इस्तीफा सौंपा था और मुख्यमंत्री कार्यालय ने उनका इस्तीफा मंगलवार को राज्यपाल के पास भेजा दिया था। सूत्रों ने बताया कि राज्यपाल ने आज चकमा का इस्तीफा मंजूर कर लिया। चकमा ने अपने इस्तीफे में कहा कि चार छात्रों जिन्होंने एमबीबीएस सीटें राज्य कोटा के तहत प्राप्त की थी उन्हें राज्य के उच्चतर एवं तकनीकी शिक्षा विभाग ने देश भर के किसी भी मेडिकल कॉलेज में कोटा देने से इनकार कर दिया। उनमें से दो छात्र उनके ही ...and more »

Read on नवभारत टाइम्स

मिजोरम : बी डी चकमा ने दिया इस्तीफा

देशबन्धु 21st Aug, 2017 05:59 PM

मुख्यमंत्री को सम्बोधित इस्तीफे में उन्होंने मिजोरम छात्र संगठन 'मिजो जिरलई पाओल' की मांग पर राष्ट्रीय पात्रता सह-प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) उत्तीर्ण चार छात्रों को मिजोरम सरकार द्वारा एमबीबीएस के लिये अयोग्य ठहराने पर निराशा जाहिर की है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री लल थनहवला पर श्री चकमा को मंत्री पद से हटाने का लगातार दबाव पड़ रहा था। इसी के मद्देनजर श्री चकमा ने इस्तीफा दिया है। मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने कहा है कि मुख्यमंत्री ने श्री चकमा का इस्तीफा अभी स्वीकार नहीं किया है। एक निजी संगठन चकमा जिला समिति के पूर्व मुख्य कार्यकारी सदस्य श्री चकमा ने ...and more »

Read on देशबन्धु

मिजोरम में गरमाई राजनीति, मंत्री ने दिया इस्तीफा

Navodaya Times 21st Aug, 2017 03:16 PM

Navodayatimes नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मिजोरम के मत्स्यपालन राज्य मंत्री बुद्ध धन चकमा ने आज मंत्रिपरिषद की सदस्यता से अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री ललथनहवला को सौंप दिया। Google नए ऑपरेटिंग सिस्‍टम एंड्रॉयड O आज करेगी लॉन्च, जानें खासियत. मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) सूत्रों ने बताया कि चकमा का इस्तीफा अभी ललथनहवला ने स्वीकार नहीं किया है।अपने इस्तीफा पत्र में चकमा ने कहा कि राज्य कोटे के तहत एमबीबीएस सीट के लिये उत्तीर्ण हुए चकमा के चार छात्रों को देश के मेडिकल कॉलेजों में दाखिला देने से इनकार कर दिया गया था। वास्तविक समय में आपदा से निपटने में मदद कर सकता है ...and more »

Read on Navodaya Times

मिजोरम में गरमाई राजनीति, मंत्री ने दिया इस्तीफा

Navodaya Times 21st Aug, 2017 03:16 PM

मिजोरम में गरमाई राजनीति, मंत्री ने दिया इस्तीफा. Updated on 8/21/2017. Navodayatimes नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मिजोरम के मत्स्यपालन राज्य मंत्री बुद्ध धन चकमा ने आज मंत्रिपरिषद की सदस्यता से अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री ललथनहवला को सौंप दिया। Google नए ऑपरेटिंग सिस्‍टम एंड्रॉयड O आज करेगी लॉन्च, जानें खासियत. मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) सूत्रों ने बताया कि चकमा का इस्तीफा अभी ललथनहवला ने स्वीकार नहीं किया है।अपने इस्तीफा पत्र में चकमा ने कहा कि राज्य कोटे के तहत एमबीबीएस सीट के लिये उत्तीर्ण हुए चकमा के चार छात्रों को देश के मेडिकल कॉलेजों में दाखिला देने से इनकार कर दिया गया था। वास्तविक समय में आपदा से निपटने में मदद कर सकता है Twitter, जानिए कैसे? इनमें से ...and more »

Read on Navodaya Times

मिजोरम के मंत्री ने इस्तीफा दिया

Bhasha-PTI 21st Aug, 2017 02:37 PM

एजल, 21 अगस्त (भाषा) मिजोरम के मत्स्यपालन राज्य मंत्री बुद्ध धन चकमा ने आज मंत्रिपरिषद की सदस्यता से अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री ललथनहवला को सौंप दिया। मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) सूत्रों ने बताया कि चकमा का इस्तीफा अभी ललथनहवला ने स्वीकार नहीं किया है। अपने इस्तीफा पत्र में चकमा ने कहा कि राज्य कोटे के तहत एमबीबीएस सीट के लिये उत्तीर्ण हुए चकमा के चार छात्रों को देश के मेडिकल कॉलेजों में दाखिला देने से इनकार कर दिया गया था। इनमें से दो छात्र उनके विधानसभा क्षेत्र से थे। उन्होंने कहा, ''मंत्रिपरिषद में बने रहने से , हमारे लोकतंत्र की गरिमा बनाए रखने के लिए ...

Read on Bhasha-PTI

नॉर्थ ईस्ट डायरी: उत्तर पूर्व के राज्यों में अंतर्राष्ट्रीय रोमिंग पर लगी पाबंदी हटी

The Wire Hindi 30th Jul, 2017 06:29 PM

मिज़ोरम: बीएसएफ के दो जवानों पर बलात्कार का आरोप. आइजोल: मिज़ोरम में भारत बांग्लादेश सीमा पर तैनात सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दो जवानों पर एक स्थानीय महिला ने बलात्कार का आरोप लगाया है. राज्य के मामित ज़िले के सिलसुरी गांव की महिला चकमा आदिवासी समुदाय की है. पुलिस को दिए अपने बयान में उन्होंने है कहा कि बांस लेने के लिए वह एक अन्य महिला के साथ जंगल में गई हुई थीं जब सिलसुरी आउटपोस्ट पर तैनात बीएसएफ के जवानों ने उनसे कथित तौर पर बलात्कार किया. यह घटना 16 जुलाई की है. घटना के बाद महिला किसी तरह अपने गांव गई और गांववालों को घटना की जानकारी दी, जबकि उनके साथ गई दूसरी महिला के बारे में उस दिन कुछ भी पता नहीं चल सका. पांच दिन के बाद उस महिला ...

Read on The Wire Hindi

नॉर्थ ईस्ट डायरी: नगालैंड में सत्ता परिवर्तन के बाद 19 विधायक एनपीएफ से निकाले गए

The Wire Hindi 23rd Jul, 2017 04:58 PM

मिज़ोरम: एमजेडपी ने प्रस्तावित बंद का फैसला वापस लिया. आइजोल: मिज़ोरम के प्रमुख छात्र संगठन एमजेडपी (मिज़ो ज़िरलई पॉल) ने मेडिकल कॉलेजों में मिज़ोरम कोटे में चकमा विद्यार्थी को दाखिला नहीं देने पर सरकार के सहमत होने के बाद अपना प्रस्तावित बंद वापस ले लिया है. एमजेडपी ने 21 जुलाई से अनिश्चितकालीन राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया था लेकिन राज्य सरकार ने चिकित्सा क्षेत्र में अध्ययन को लेकर चकमा विद्यार्थियों की काउंसलिंग रद्द करने का फैसला कर लिया. एमजेडपी की एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि समझौते के अनुसार अब केवल मिज़ो समुदाय के 11 विद्यार्थियों को एमबीबीएस और बीडीएस का अध्ययन करने के लिए तीन मेडिकल कॉलेजों में भेजा जाएगा और चार चकमा छात्र ...

Read on The Wire Hindi

मोदी सरकार अरुणाचल प्रदेश में रह रहे करीब एक लाख शरणार्थियों को नागरिकता देने जा रही है

सत्याग्रह 19th May, 2017 07:13 PM

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार अरुणाचल प्रदेश में रह रहे करीब एक लाख चकमा और हजोंग शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने जा रही है. इस पर राज्य सरकार से बातचीत की जा रही है. इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में आधिकारिक सूत्रों ने बताया, 'संविधान के तहत किसी को भारतीय नागरिकता देने का अधिकार केंद्र सरकार को है. इसी का इस्तेमाल करते राज्य सरकार की आपत्ति के बावजूद केंद्रीय गृह मंत्रालय इन शरणार्थियों को नागरिकता दे सकता है. हालांकि सामान्य प्रक्रिया के तहत पहले हम इस मुद्दे पर राज्य सरकार को सहमत करने की कोशिश करेंगे. इसीलिए उसके साथ चर्चा शुरू की गई है.' हालांकि सूत्र बताते हैं कि चकमा और हजोंग शरणार्थियों को नागरिकता भले मिल जाए, लेकिन उन्हें अनुसूचित ...

Read on सत्याग्रह

चकमा और हाजोंग समुदाय को एसटी का दर्जा नहीं दिया जा सकता: रिजिजू

Firstpost Hindi 28th Apr, 2017 03:05 PM

लिनियार्डो द विंची: सबसे जीनियस कलाकार या सबसे जीनियस जालसाज? रागदारी: आजा-आजा मैं हूं प्यार तेरा के बाद इस गाने से क्या साबित करना चाहते थे पंचम · जामा मस्जिद की निहारी: न पूरी तरह मुगल, न पूरी तरह शाही, मगर लाजवाब · रागदारी: राजेश खन्ना के दो अमर गीतों के पीछे की कहानी · ख़ास · देश में सुधार के लिए लचर कमेटी नहीं कैलिफोर्निया जैसा मॉडल चाहिए: मेनका गांधी का कॉलम · जन्मदिन विशेष: चार्ली चैपलिन की वो 10 बातें जो आपको जरूर जाननी चाहिए · कामराज प्लान: जब नेहरू के कहने पर शास्त्री और मोरारजी जैसे नेताओं ने छोड़ी कुर्सी · जानिए इतिहास में क्यों खास है 16 अप्रैल का दिन · क्रिकेट · बिजनेस · नौकरीपेशा लोगों ने गलत IT रिटर्न भरा तो होगी ...

Read on Firstpost Hindi

पूर्वोत्तर में हिंदुत्व: बीजेपी को कमजोर बना सकते हैं ईसाई

Firstpost Hindi 27th Apr, 2017 10:00 PM

संपादक की बात: फर्स्टपोस्ट ने उत्तर पूर्व में बीजेपी और संघ के विकास की कहानी को समझने की कोशिश शुरू की है. इस दिशा में हमारी दो भाग की सीरीज की ये पहली किस्त है. इसमें हम ये समझने की कोशिश करेंगे कि पूर्वोत्तर में बीजेपी के विकास में आरएसएस का कितना रोल है? उत्तर पूर्व के राज्यों में बीजेपी इस वक्त तेजी से सियासी ताकत के तौर पर उभरी है. बीजेपी का पूर्वोत्तर में विस्तार भले नया हो, मगर, हिंदुत्ववादी संगठन आरएसएस के लिए ये इलाका नया नहीं. संघ की इस इलाके में मौजूदगी आजादी से पहले के दौर की है. संघ ने इस इलाके में पहुंच बनाने की कोशिश 1946 से शुरू कर दी थी. उस वक्त असम बहुत बड़ा राज्य था. आज के मिजोरम, नागालैंड और मेघालय भी असम का हिस्सा थे. लेकिन इस ...and more »

Read on Firstpost Hindi

पूर्वोत्तर भारत के लोकसाहित्य की विशेषताएँ

Pravaktha.com 25th Feb, 2017 03:59 PM

असम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, त्रिपुरा और सिक्किम- इन आठ राज्योंद का समूह पूर्वोत्त्र भौगोलिक, पौराणिक, ऐतिहासिक एवं सामरिक दृष्टि से अत्यंतत महत्व्पूर्ण है । देश के कुल भौगलिक क्षेत्र का 7.9 प्रतिशत भाग पूर्वोत्तृर क्षेत्र के आठ राज्यों में समाविष्टै है । कुल क्षेत्रफल का 52 प्रतिशत भूभाग वनाच्छाूदित है । इस क्षेत्र में 400 समुदायों के लोग रहते हैं। इस क्षेत्र में लगभग 220 भाषाएं बोली जाती हैं । संस्कृ।ति, भाषा, परंपरा, रहन-सहन, पर्व-त्योभहार आदि की दृष्टिं से यह क्षेत्र इतना वैविध्य पूर्ण है कि इस क्षेत्र को भारत की सांस्कृंतिक प्रयोगशाला .... एक अन्यह मत है कि तीन नगरों की भूमि होने के कारण त्रिपुरा नाम ख्याात हुआ । विद्वानों के एक वर्ग ...

Read on Pravaktha.com

चकमा शरणार्थियों ने भारत की नागरिकता मांगी

Samachar Jagat 11th Oct, 2016 10:50 PM

नई दिल्ली। पांच दशक पहले बांग्लादेश से विस्थापित होकर भारत आए चकमा शरणार्थियों का एक प्रतिनिधिमंडल आज केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह से मिला और उनसे नागरिकता दिलाने के लिए हस्तक्षेप करने की मांग की। ऑल इंडिया चकमा सोशल फोरम के तत्वाधान में प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री से कहा कि समुदाय को पिछली करीब आधी सदी से नागरिकता के अधिकारों से वंचित रखा गया है और वह इसे लेकर हस्तक्षेप करें। चकमा समुदाय ने एक सहमति ज्ञापन में सिंह से कहा कि 1964-68 के दौरान करीब 15,000 चकमा तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान के चटगांव पर्वतीय क्षेत्रों से भाग आए थे। भारत आने के बाद वे तत्कालीन नॉर्थईस्टर्न फ्रंट एजेंसी नेफा में बस गए, जो इस समय अरूणाचल प्रदेश है ...and more »

Read on Samachar Jagat